गैस सिलेण्डर महंगा होने से गड़बड़ाया रसोई बजट

गैस सिलेण्डर महंगा होने से गड़बड़ाया रसोई बजट

नई दिल्ली:-  कोरोना संकट के बीच आर्थिक तंगी से गुजरे लोगों का बजट अभी ठीक से संभला भी नहीं कि दो दिन पहले ही सरकार ने प्रति गैस सिलेंडर 15 रुपए बढ़ाकर रसोई बजट की हालत खराब कर दी है। 
अभी दो दिन पहले तक प्रति रसोई गैस सिलेंडर की रेट 905 रुपए थी। सरकार ने दो दिन पहले ही इसे बढ़ाकर प्रति गैस सिलेंडर की कीमत 920 रुपए कर दी है। इसी के साथ एक बार फिर रसोई गैस उपभोक्ताओं पर करीब डेढ़ माह में 15 रुपए का अतिरिक्त भार बढ़ चुका है। जबकि सरकार ने गत दो माह में ही करीब दो बार में 50 रुपए प्रति गैस सिलेंडर पर बढ़ाए थे।
महिलाओं को रसोई का बजट भारी पड़ रहा है ।
सरकार की ओर से दो तीन माह से लगातार बढ़ाए जा रहे रसोई गैस की कीमत से गृहणियों का घरेलू बजट पूरी तरह से बिगाड़ कर रख दिया हैं। जिस पर चिंता जताते हुए गृहणियों का कहना है कि पहले ही खाने-पीने के सामान बिजली के दाम बढ़े हुए हैं। अब रसोई गैस के दाम फिर से बढ़ने से हालात दिनों दिन बिगड़ते जा रहे है।
रसोई गैस के दाम 17 अगस्त को 25 रुपए बढ़े थे। फिर एक सितंबर से 25 रुपए बढ़ा दिए। एक पखवाड़े के भीतर ही गैस सिलेंडर में 50 रुपए से ज्यादा की बढ़ोतरी कर दी थी। फिर गत माह में इसके दाम बढ़कर प्रति गैस सिलेंडर 905 रुपए हो गए। उसके बाद अब दो दिन पहले ही सरकार ने प्रति रसोई गैस सिलेंडर पर 15 रुपए बढ़ा दिए हैं। ग्रहणी प्रियंका गुप्ता ने एवं राजश्री  आदि ने बताया कि रसोई गैस सिलेंडर पर आए दिन बढ़ोतरी करने से ये लोगों की पहुंच से बाहर होते जा रहे है। आने वाले समय में लोग वही पुराने उपले लकड़ी के ईंधन पर कार्य करना शुरू कर देंगे।